Competition Community

अभ्यर्थी संकलन (12 June 2019)

admin Abhiyarthi Sankalan

Based on Chhattisgarh/National/International Current Affair

राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय समसामयिक

विश्व बाल श्रम निषेध दिवस 2019

विश्व बाल श्रम निषेध दिवस 2019

प्रत्येक वर्ष 12 जून को विश्व बाल श्रम निषेध दिवस मनाया जाता है. बाल मज़दूरी के खिलाफ जागरूकता फैलाने और 14 साल से कम उम्र के बच्‍चों को इस काम से निकालकर उन्‍हें शिक्षा दिलाने के उद्देश्‍य से इस दिवस की शुरुआत साल 2002 में ‘द इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन’ की ओर से की गई थी.

विश्व बाल श्रम निषेध दिवस 2019 का विषय है – बच्चों को फील्ड में नहीं सपनों पर काम करना चाहिए.

गंगा दशहरा-2019

हिंदू कैलेंडर के अनुसार प्रत्येक वर्ष ज्‍येष्‍ठ माह के शुक्‍ल पक्ष की दशमी तिथि को गंगा दशहरा मनाया जाता है. दूसरी ओर, अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार गंगा दशहरा मई या जून में मनाया जाता है. वर्ष 2019 में गंगा दशहरा 12 जून को मनाया जा रहा है.

गंगा दशहरा को पुण्य कमाने तथा दान करने का भी अवसर माना जाता है. इस दिन लोग बड़े स्तर पर दान-पुण्य करते हैं. इस दिन शीतलता प्रदान करने वाली वस्तुओं का दान विशेष रूप से महत्वपूर्ण माना जाता है.

चक्रवात ‘वायु’

चक्रवाती तूफान ‘वायु’ के गुजरात तट से टकराने और आस पास के क्षेत्रों में तबाही की आशंका को देखते हुए केंद्र सरकार ने बचाव की तैयारियां शुरु कर दी हैं. मौसम विभाग के अनुसार 13 जून को गुजरात के तट से चक्रवाती तूफान टकरा सकता है. मौसम विभाग ने 11 जून 2019 को चेतावनी दी कि अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है.

17वीं लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर

बीजेपी सांसद डॉ. वीरेंद्र कुमार 17वीं लोकसभा के प्रोटेम स्पीकर होंगे. नए चुने गए सांसदों को वह सदन की सदस्यता की शपथ दिलाएंगे. वह 7वीं बार सांसद चुने गए हैं. वीरेंद्र कुमार भारत की 11वीं, 12वीं, 13वीं, 14वीं, 15वीं और 16वीं लोकसभा के सदस्य रहे.

प्रोटेम स्पीकर एक अस्थायी स्पीकर होता है जो लोकसभा में कार्यों के संचालन के लिए सीमित अवधि के लिए नियुक्त किया जाता है. प्रोटेम स्पीकर सदन का सबसे वरिष्ठ सदस्य होता है जो स्पीकर और डिप्टी स्पीकर की नियुक्ति नहीं होने तक सदन की कार्यवाही संचालित करता है.

छत्तीसगढ़ समसामयिक

छत्तीसगढ़ में खेलों के नाम और नियम संस्कृत में होंगे

छत्तीसगढ़ देश का पहला ऐसा राज्य बनने जा रहा है जहाँ खेलों के नाम और नियम संस्कृत में होंगे. इस पहल का मकसद राज्य में संस्कृत को बढ़ावा देना और खेलों में भी संस्कृत के प्रयोग को प्रोत्साहित करना है.

राज्य में क्रिकेट, फुटबॉल, वॉलीबॉल जैसे सभी प्रचलित खेलों के नाम और नियम के लिए संस्कृत में तकनीकी शब्दावली होगी। संस्कृत विद्या मंडलम् व्यापक रिसर्च कर चरणबद्ध तरीके से इसे तैयार करेगा।

You May Also Like..

आरबीआई ने रेपो रेट को अपरिवर्तित 5.15% रखा

अभ्यर्थी संकलन (06 December 2019)

राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय समसामयिक भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 451.7 अरब डॉलर के सर्वोच्च स्तर पर पहुंचा 3 दिसम्बर को समाप्त हुए […]

अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांगजन दिवस

अभ्यर्थी संकलन (04 December 2019)

छत्तीसगढ़ समसामयिक छत्तीसगढ़ के गरीबी दर में 2.1 फीसदी की बढ़ोतरी एनएसओ (NSO) के सर्वे अध्ययन के अनुसार साल 2011-12 […]

इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट निषेध विधेयक-2019 पारित

अभ्यर्थी संकलन (03 December 2019)

राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय समसामयिक इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट निषेध विधेयक-2019 पारित संसद ने 02 दिसंबर 2019 को इलेक्‍ट्रानिक सिगरेट निषेध विधेयक- 2019 पारित कर […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *