Competition Community

अभ्यर्थी संकलन (15 June 2019)

admin Abhiyarthi Sankalan

Based on Chhattisgarh/National/International Current Affair

राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय समसामयिक

वी.जी. कन्नन समिति

भारतीय रिज़र्व बैंक ने हाल ही में वी.जी. कन्नन (इंडियन बैंक्स एसोसिएशन के चीफ एग्जीक्यूटिव) की अध्यक्ष में एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया, यह समिति एटीएम शुल्कों की समीक्षा करेगी

भारत में लगभग 2 लाख एटीएम है। अप्रैल 2019 के अंत तक देश में 88.47 करोड़ डेबिट कार्ड हैं। अप्रैल में डेबिट कार्ड के द्वारा एटीएम में 80.9 ट्रांजेक्शन की गयीं।

पिछले कुछ वर्षों में एटीएम के उपयोग में काफी वृद्धि हुई है, इसलिए एटीएम शुल्कों में काफी समय से बदलाव की मांग की जा रही है।

स्वच्छ पेयजल सुविधा

केंद्र सरकार ने 2024 तक देश में सभी लोगों को स्वच्छ पेयजल की सुविधा प्रदान करने का लक्ष्य रखा है। 2024 तक 100% घरों को पाइप के द्वारा पेयजल मुहैया करवाया जायेगा।

भारत में पिछले कुछ समय पर प्रति व्यक्ति जल उपलब्धता में कमी आई है। 1950 में प्रति व्यक्ति जल उपलब्धता 5,000 लीटर थी, अब यह कम होकर 1400 लीटर ही रह गयी है। 1950 के बाद जनसख्या में तीन गुना इजाफा हुआ है जबकि जल की उपलब्धता कमी आई है।

उत्तर प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, झारखण्ड, ओडिशा और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता 5% से भी कम है। सिक्किम देश का एकमात्र ऐसा राज्य है जहाँ पर 99% घरों में नल के द्वारा पानी पहुँचाया गया है

ज्ञानपीठ पुरस्कार 2018

प्रसिद्ध अंग्रेजी लेखक अमिताव घोष को ज्ञानपीठ पुरस्कार 2018 प्रदान किया गया, उन्हें यह सम्मान अंग्रेजी साहित्य में दिए गये योगदान के लिए दिया गया है।

उन्हें यह सम्मान पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपालकृष्ण गाँधी द्वारा प्रदान किया गया, वे इस समारोह के मुख्य अतिथि थे। इस सम्मान समारोह का आयोजन नई दिल्ली के हैबिटैट सेंटर में किया गया।

अमिताव घोष ज्ञानपीठ पुरस्कार को जीतने वाले पहले अंग्रेजी लेखक हैं, इससे पहले यह पुरस्कार केवल भारतीय भाषाओँ के लेखकों ने ही जीता है।

ज्ञानपीठ पुरस्कार 2018

डैनी काये मानवाधिकार पुरस्कार

यूनिसेफ ने अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा को डैनी काये मानवाधिकार पुरस्कार के लिए चुना है। प्रियंका चोपड़ा बच्चों की शिक्षा के लिए काफी कार्य करती हैं। वे यूनिसेफ की गुडविल एम्बेसडर हैं। वे संयुक्त राष्ट्र के “गर्ल अप” अभियान का हिस्सा भी हैं।

छत्तीसगढ़ समसामयिक

मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना

मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना में अब प्रति कन्या के विवाह पर 25 हजार रूपए की आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जाएगी। पहले इस योजना के तहत प्रति कन्या के विवाह में 15 हजार रूपए की राशि का प्रावधान रखा गया था।

राज्य शासन द्वारा इस राशि में वृद्धि करते हुए इसे 25 हजार रूपए कर दिया गया है। राज्य शासन के महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा विवाह में राशि खर्च करने के संबंध में मापदण्ड भी तय कर दिए है।

You May Also Like..

आरबीआई ने रेपो रेट को अपरिवर्तित 5.15% रखा

अभ्यर्थी संकलन (06 December 2019)

राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय समसामयिक भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 451.7 अरब डॉलर के सर्वोच्च स्तर पर पहुंचा 3 दिसम्बर को समाप्त हुए […]

अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांगजन दिवस

अभ्यर्थी संकलन (04 December 2019)

छत्तीसगढ़ समसामयिक छत्तीसगढ़ के गरीबी दर में 2.1 फीसदी की बढ़ोतरी एनएसओ (NSO) के सर्वे अध्ययन के अनुसार साल 2011-12 […]

इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट निषेध विधेयक-2019 पारित

अभ्यर्थी संकलन (03 December 2019)

राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय समसामयिक इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट निषेध विधेयक-2019 पारित संसद ने 02 दिसंबर 2019 को इलेक्‍ट्रानिक सिगरेट निषेध विधेयक- 2019 पारित कर […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *